समर्थक

रविवार, 27 फ़रवरी 2011

श्रद्धांजली गोधरा में वीरगति को प्राप्त हुए लोगों को


गोधरा के पास एक ट्रेन के डब्बे पर पेट्रोल डाल कर 59 हिन्दुओ की निर्मम हत्या कर दी थी इन सुअरो ने... कितनी नीचता से ,धोखे से ट्रेन को रोका,बिजली काटी ,भारी मात्र में पेट्रोल छिड़का और जिंदा जला डाला उन रामभक्तों को ... जो अयोध्या से श्री राम के चरणो की धूल को माथे से लगाकर लौट रहे थे ....और इन इस्लामिक चरमपंथियों ने डिब्बा भी वही चुना जिस में महिलाओं और बच्चों की संख्या सर्वाधिक थी अर्थात "S 5" इतना सहस भी नहीं हुआ इनका की पुरुषों से भिड़ते | मस्जिद से एक एक आदेश आया और सारी फिरे ब्रिगेड की गाड़ियाँ खराब हो गयीं गोधरा के सारे मुस्लिम चले आये काफिरों को मरने के लिए | और उस हत्यारी भीड़ के ३ - ४ वर्ष के बच्चे भे थे जो की इस बात का साक्ष्य है की इस्लाम हिया की हत्यारून का धर्म |

परन्तु हमें दुःख उन मुस्लिमों के कृत्यों का नहीं है,वो तो मुस्लिम हैं , हर किसी की हत्या करना ही उनका धर्म सिखाता है और यही उनके धर्म ग्रुन्थ कुरआन का आदेश है वो तो करेंगे ही इस प्रकार के कृत्य हमें दुःख तो है की न्यायलय भी नहीं दे पाया उन मृतकों को न्याय,दोनों मुख्य आरोपियों समेत ६३ हत्यारों को छोड़ दिया गया , अगर अब भी हिन्दू नहीं जगे तो इस तरह की घटनाओं की पुन्राव्र्रित्ति होती रहेगी और अगला नंबर आप का भी हो सकता है |आइये हम गोधरा में वीरगति को प्राप्त हुए उन 59 तीर्थयात्रियों को श्रद्धांजली देते हुए ये प्राण करें की उनको न्याय दिलाएंगे और उस समय तक अपनी पूरी शक्ति से संघर्ष करेंगे जब तक उस हत्यारी भीड़ के हर व्यक्ति को म्रत्यु का वतरण नहीं करवा देते हैं |



"मिट गए हमको इस जहा से मिटाने वाले ,
बुझ गए शमा शोलो को बुझाने वाले ,
सीने में है एक आग,जो बुझती नहीं है ,
जल gaye इस आग को बुझाने वाले" ....

और कुछ भक्तो को धोके से मार कर ये खुद को विजेता न समझे बता दो उन्हे .......
सुन लो गीदड़ो मुल्लों.......हम भारत माँ के चीते है ..

7 टिप्‍पणियां:

  1. भारत मेँ इस्लाम की जेहादी विचारधारा का पोषण हमारे स्वार्थी तथाकथित धर्मनिरपेक्ष नेता कर रहे है जिसकी पुष्टि सामूहिक हिन्दू नर संहार मेँ चार कांग्रेसी आतंकवादियोँ के शामिल होने से होती हैँ । यदि आतंकवाद को मिटाना है तो आतंकवादियोँ से पहले उनकी प्रेरक कुरान की अमानवीय आयते और उनके समर्थक गद्दार भ्रष्ट नेताओँ को निपटाओँ ।
    वन्दे मातरम्

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस्लाम और आतंकवाद एक दुसरे के पूरक हैं दोनों साथ में ही मिटेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  3. आग से आग नहीं बुझा करती ...एक समय था जब वैष्णव और शैव भी आपस में इतने ही कट्टर दुश्मन थे जितने कि आज के हिंदू और मुसलमान हैं और आज, शिव, समग्र हिंदू समाज के आधारभूत देवता हैं..क्यों ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. abe sooar 1950 hindu musalmaano jaisi dushmani kabhi nahin rahi hindu samaj ke do bhagon me

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्याम जी "जब वैष्णव और शैव भी आपस में इतने ही कट्टर दुश्मन थे जितने कि आज के हिंदू और मुसलमान हैं"

    यह केवल कम्युनिस्टों द्वारा फैलाया गया भ्रम है .मैं आप की योग्यता और आप के ज्ञान का सम्मान करता हूँ और ये भी मानता हूँ की ज्ञान के लिए मैं आप के सामने कोटि अंश भी नहीं हूँ परन्तु इस विषय पर मैं आप को विनम्र चुनौती देता हूँ |

    ये केवल कम्युनिस्टों द्वारा फैलाया गया भ्रम है|

    उत्तर देंहटाएं
  6. I am truly grateful to the owner of thіs site
    who hаs ѕhared this great ρiecе οf
    writіng at at thіѕ timе.
    Here is my blog post ; sheer tights

    उत्तर देंहटाएं
  7. Тhiѕ іs a reallу insрiring post.

    I really am very impressеd by your postѕ.
    You cοme up ωith usеful infоrmation.
    Keеp it up. Keep blogging. Reаlly lοokіng foгwarԁ to going thгough yοur next postіng.
    My web blog ; shoe lifts

    उत्तर देंहटाएं

आप जैसे चाहें विचार रख सकते हैं बस गालियाँ नहीं शालीनता से