समर्थक

शनिवार, 31 दिसंबर 2011

नव वर्ष में नवीनता क्या ?

इस समय पूरे देश में 2012 आने के उत्सव मनाये जा रहे हैं और इन उत्सवों का स्वरूप भी 'विशुद्ध आधुनिक' है दूसरी तरफ इन्टरनेट पर हिन्दुत्ववादी और राष्ट्रवादी लोग इन उत्सवों की प्रासंगिकता पर चर्चाएँ कर रहे हैं | उत्सवों का रंग बड़े नगरों में कुछ ज्यादा ही चटख है और विरोधी स्वर्रों में जोर इस बात पर है की इस नववर्ष का मूल विदेश में है  या ये किसी दुसरे धर्म के प्रवर्तक के जन्म के  आधार पर है | सभी के पास अपने तर्क हैं और मेरे पास भी हैं |

मुझे इस बात से कोई समस्या नहीं है की इस नववर्ष का मूल भारत भूमि से दूर एशिया और यूरोप की सीमा पर स्थित बेथेहलम में है | हम अभी भी उन वेद ऋचाओ के अनुसार चलते हैं जिनका कहना है की "यज्ञ अर्थात अच्छे विचार समस्त दिशाओं से हमारे पास आयें " या "ज्ञान यदि शत्रु से भी मिले तो उसे ले लेना चाहिए" परन्तु हम यह अवश्य देखना चाहेंगे की जो हमें मिल रहा है ये ज्ञान है या अज्ञान है ; और यदि ज्ञान है भी तो मंगलकारी है या नहीं लोकहितकारी है या नहीं है |

सबसे पहले बात करते है ईसाई धर्म के प्रवर्तक ईसा के जन्म दिन की ; अगर ईसा का जन्म 25 दिसंबर को हुआ था तो नववर्ष 1 जनवरी को क्यूँ ? इसके अतिरिक्त ईसा का जन्म बेथेहलम में हुआ था और उनके जन्म के समय एक गुफा में भेड़ों और गडारियों की भी कथा है | परन्तु बेथेहलमने जनवरी के इस ठन्डे मौसम में गडरिये अपनी भेड़ों को लेकर बाहर नहीं निकलते हैं , इस संबंधमे मार्च या अप्रैल वाली परंपरा अधिक उचित प्रतीत होती है | जिस प्रकार "ईसा इश्वर का पुत्र है " ये बात का 'निर्णय' ईसा की मृत्यु  के 300 वर्षों बाद पादरियों की सभा में लिया गया था उसी प्रकार इस बात का भी निर्णय लिया गया हो की ईसा का जन्म नववर्ष के अवसर पर हुआ था | एक दूसरी संभावना ये दिखती है की ईसा का जन्म हिन्दू नववर्ष के दिन हुआ हो (जो की तार्किक रूप से भी सही लगता है ) और ये बात उस समय के उस स्थान के जनमानस में बैठ गयी हो परन्तु काल-गणना सही न होने के कारन वो लोग उसे संभल न पाए हो और बाद में किसी पादरी के कुछ निर्णय कर दिए हों |

अब बात ग्रेगेरियन कैलेंडर की करी जाय | कुछ लोग कह सकते हैं की भले ही इस नववर्ष का ईसा से कोई सम्बन्ध न हो पर एक वर्ष पूर्ण होने पर उत्सव किया जाता है | परन्तु अभी तक इस "वर्ष" की सही और उचित परिभाषा भी निर्धारित नहीं की जा सकी है | यदि पृथ्वी द्वारा सूर्य की परिक्रमा करने को एक वर्ष माना जाय तो ग्रेगेरियन वर्ष इससे छोटा होता है और अगर 4 वर्षों में किये जाने वाले संशोधन को ध्यान में रखा जाय तो यह एक वर्ष से बड़ा हो जाता है | इसमें बहुत अधिक विसंगतियां हैं और इसकी सर्वमान्यता भी छद्म है |इसी लिए तो अक्तूबर क्रांति की वर्षगांठ नवम्बर में होती है और लन्दन में एक बार दंगे हो चुके थे क्यूँकी 3 मार्च के बाद वाले दिन को 18 मार्च घोषित कर दिया गया था |

अब परंपरा की बात कर लेते हैं ; हिन्दू नववर्ष की परंपरा कम से कम ५००० वर्ष पुरानी तो है ही इसका हमारे पास साक्ष्य है और इस नववर्ष की तो तिथि का ही निर्धारण ही उचित तरीके से नहीं हुआ है | अगर भारतीय परंपरा को छोड़ दिया जाय और यूरोप की ही बात कर ली जाय तो मार्च में नववर्ष मानाने की परंपरा कहीं अधिक पुरानी और समृद्ध है | अब बात करते हैं आधुनिकता के ध्वजवाहकों की जिनका मानना है की "ज़माने के साथ चलो" या "पुरानी बातें छोडो और नए तरीकों को अपनाओ " तो क्या किसी चीज को इस लिए ही अपनाया जा सकता है की वो नयी  है ?? एक प्रसिद्द वाक्य है की "बाजार में तकनीकी या नवीनता नहीं अपितु उपयोगिता बिकती है "  जब बाजार में "केवल नवीनता" नहीं बिक सकती है तो इस "मुर्खतापूर्ण नवीनता " को हमारे जीवन में इतना अधिक महत्वपूर्ण स्थान क्यूँ मिलाना चाहिए ??

अब इसके बाद हम बात करते हैं उन लोगों की जो कहते हैं की "अगर 1 जनवरी को 'थोड़ी सी मस्ती ' कर भी लो तो क्या फर्क पड गया ??"  या क्या हमारी सस्कृति इतनी कमजोर है की कुछ 'New Year Parties ' से ख़तम हो जायेगी ?" या सबसे 'धमाकेदार' "क्या पुरी दुनिया पागल है ?" | तो सबसे पहले तो यह की जिस प्रकार Cristianity का Crist से कोई सम्बन्ध नहीं है और "वेलेंटाइन डे के उत्सवों के स्वरुप " का संत वेलेंटाइन से कोई सम्बन्ध नहीं है उसी प्रकार इस नववर्ष में कुछ भी नवीन नहीं है |इसकी लोकप्रियता का कारन केवल बहुराष्ट्रीय कंपनियों की वह रणनीति है जिसके अनुसार "खर्च करना "ही एक मात्र जीवन शैली है और यही एक मात्र उत्सवपूर्ण जीवन शैली है , खर्च करना ही आप की महानता  की निशानी है और खर्च करना ही और की उदारता का प्रतीक है |उत्सव अर्थात खर्च करना | इन उत्सवों के स्वरूप के देखिये पूरा का पूरा ध्यान खर्च करने पर रहता है और पुरी तरह से मुर्खतापूर्ण खर्चे करने पर जो की केवल बड़ी कम्पनियों को ही लाभ पहुचती हैं | ये "केवल खर्च करना"  बड़ी कंपनियां हमारी जीवन शैली बना देना चाहती हैं जो की हमें स्वीकार है है क्यूँ की ये अमंगलकारी है | इस "थोड़ी सी मस्ती " से फर्क ये पड़ता है की आप मानसिक दासता को स्वीकार कर लेते हैं औ आप को पता भी नहीं चलता है की आप बहुराष्टीय कंपनियों प्रबंधकों के मानसिक चक्रव्यूह में फँस चुके हैं | हमारी भारतीय संस्कृति खतरे में नहीं पड सकती है क्यूँकी यह तो सत्य  पर आधारित होती है और सत्य तो "देश काल की सीमाएँ से परे" होता है परन्तु हमारी यह सत्य सनातन संस्कृति ही हमें यह कर्तव्य बोध देती है  की हम भटके हुए लोगों को सन्मार्ग दिखाएँ | हमारी संस्कृति हमें यह सिखाती है की अगर कुछ लोग मुर्ख हैं तो यह उनकी गलती नहीं है अपितु उस समाज के ज्ञानियों की गलती है की उन्होंने उन मुर्कोह को ज्ञान क्यूँ नहीं दिया |

अंत में कुछ शब्द उन ज्ञानियों से जो की हमारे इस लेख से सहमत हैं और पूरी शक्ति से उन लोगों को कोसने में लगे हुए हैं जो इस "नववर्ष  उत्सव" को मानते हैं |ये हालत एक दिन में नहीं बिगड़े हैं तो एक दिन में सुधरेंगे भी नहीं | हमारे बुजुर्गों ने विकास के लोभ में जो पथ चुना था वो यहीं पर आता है | जिसे आधुनिकता का पर्याय माना गया था उसकी यही परिणिति थी | आज हम जो काट रहे है ये कम से कम 20 वर्ष पहले या शायद 60 वर्ष पहले बोया गया था | आज की फसल को कोसने या गली देने के बजे आर हम कल के लिए फसल बोयेंगे तो तो ज्यादा अच्छा रहेगा ऐसा मेरा निजी रूप से मानना है और हम इसी का प्रयास भी कर रहे हैं |

7 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अंकित भाई, बेहतरीन पोस्ट, जिसे काफी शोध के साथ लिखा गया है| सबसे पहले तो जो अंग्रेजी नववर्ष २००-२५० साल पहले तक मार्च में मनाया जाता था, अब जनवरी में कैसे? क्यों september सातवां महिना न होकर नवां हो गया? क्यों octuber, november, december महीने क्रमश: आठवें, नवें व दसवें महीने न होकर क्रमश: दसवें, ग्यारहवें व बारहवें महीने हो गए, जबकि इनके नाम से तो कुछ और ही प्रतीत हो रहा है?
    क्या धरती की उत्पत्ति इस कडकडाती सर्दी में हुई जो इसे नववर्ष के रूप में थोप दिया गया? मुझे तो हमारे भारतीय नववर्ष की सार्थकता अधिक लगी जो बसंत में शुरू हुआ जब नयी फसलें आती हैं, वृक्षों पर फल लगते हैं, पादपों पर पुष्प खिलते हैं| सही अर्थों में तो उत्पत्ति यही है|
    फिर इस अंग्रेजी नववर्ष के नाम पर विलासिता में डूबे इस समाज के किसी भी तर्क को क्यों न नकारा जाए? कल जितनी शराब की बिक्री हुई है उतनी तो पूरे साल में नहीं हुई होगी| सूर्यास्त होते ही महिलाओं का घर से बाहर निकलना दूभर हो गया| पूरा शहर भोग विलासिता और मदिरा की चादर ओढ़े हुए था| वैभवता को दर्शाने हेतु मांसलता व मदिरा का नंगा नाच कहाँ तक उचित है? क्या ऐसे ही नववर्ष का स्वागत किया जाता है?
    यह हमारी मानसिक गुलामी की पराकाष्ठा ही कही जाएगी जब भारतीय युवाओं को २५ दिसंबर को क्रिसमस तो याद रहा किन्तु २६ दिसंबर को उधम सिंह को भूल गए| ३१ दिसंबर को नववर्ष तो याद रहा है किन्तु उसी दिन गुरु गोविन्द सिंह का प्रकाश पर्व भूल गए| फिर क्यों न इस झूठे व घिनौने कृत्य के अस्तित्व को नकारा जाए?

    उत्तर देंहटाएं
  3. इंदु शेखावत1 जनवरी 2012 को 10:32 am

    शास्त्र कहते हैं कि वसंत ऋतु में ही जीव, जन्तु और वनस्पतियों की उत्पत्ति हुई। इसी ऋतु में उन्माद और उल्हास होता है। नई फसल भी इसी ऋतु में ही उपजाई जाती है। तमाम वैदिक परम्पराए भी इस ऋतु में होती है और वसंत काल में ही नव वर्ष संवत्सर शुरू होता है। ईसा का इतिहास 2000 साल पुराना है। इससे पहले सभी आर्य थे और आदि काल से ही हमारा धर्म प्रासंंगिक रहा है। ये वेद की ऋचाओं में उल्लेखित है। अत: हमें अपनी संस्कृति और विरासत को कतई नहीं त्यागना चाहिए। आधुनिकता का मतलब फूहड़पन नहीं है। कालान्तर से परिवर्तन होता आ रहा है। वह इंसान नग्न रहता था और ज्ञान की प्राप्ति होने से पर संवेदनशील अंगों को ढकने लगा मगर अब आधुनिकता के नाम पर नग्नता ही पाश्चात्य संस्कृति हो गई,साथ ही आधारहीन भी हो गई जबकि हिंदू संस्कृति आज भी स्तंभ के रूप में है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपको नव-वर्ष 2012 की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  5. धन्यवाद अंकित जी सर्व प्रथम आपको आंग्ल नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं..साथ ही मैं आपके इस पोस्ट का सराहना करते हुए..आपके इन उत्त्मोत्तम विचारों का स्वागत करता हुं..धन्यवाद अपनी प्राच्य संस्कृति के सारगर्भित व्याख्या के लिए...जय श्रीराम

    उत्तर देंहटाएं
  6. ४.५% अल्पसंख्यक आरक्षण के बारे में क्या विचार है ?

    उत्तर देंहटाएं
  7. किसी ख़राब व्यवस्था के अन्दर व्यवस्थाएं कैसी हो इस सम्बन्ध में मेरे पास कोई विचार नहीं हैं

    उत्तर देंहटाएं

आप जैसे चाहें विचार रख सकते हैं बस गालियाँ नहीं शालीनता से